Skip to main content

Hi5 Pa - Father's Day



NOTE 5: Hi5 पा


Hi5 Pa, hows you doing,
Its been 10 years now, many things have evolved in these years.

Many people came in my life, play their roles,

Some of those said fate is something beyond our command,
that destiny is not our own, But I know better...
Our fate lives within us. You only have to believe in it!

--------------------------------------------- Nj 20170615
NOTE 4: पापा की टाई


बचपन से देखा करता था, अक्सर पापा को लगाते हुए टाई,
सोचता था जल्दी से बड़ा हो जाऊँ और उस पर अपना कब्ज़ा जमाऊँ ..

----

सालों बीत गए है अब उन यादों को,
पर एहसास करता हूँ अब भी कुछ बातों को,

बचपन में सुनता था, आज की दुनियाँ पैसों से चलती है,
और हमारे कल के लिए पैसे कमाए जा रहे थे पापा,

सुबह जब उठता था, तब देर रात थके आये,
फिर से दिन भर काम पर जाते दीखते थे पापा,

घर में सब अपना लाड़ और प्यार दिखाते,
पर बिना कहे ही प्यार करते थे पापा,

कहते थे सब इनका ३६ का है आकड़ा ,
फिर भी मेरी हर ज़िद को पूरा करते थे पापा,

अंतर्मुखी स्वभाव और सपने ऊँचे थे मेरे,
पर उन्हें पूरे करने का रास्ता बताने वाले थे पापा,

मैं बेटा शब्द को सार्थक कर पाया या नहीं ,
पर आज साथ न होकर भी साथ बने हुए है पापा |

----

आख़िरकार आज पहली बार, पहनी है मैंने वो टाई,
मौका भी खास है, देश विदेश के लोग जमा है,

जो शिक्षा मिली थी, नींव को लौटाने की,
उसी के लिए की मेहनत का रंग जमा है,

मैं खड़ा मंच पर, कुछ बोलने को कहा है,
पर गला है रुँधा,अल्फ़ाज की जगह गर्म हवा है,

पर याद दिलाया टाई ने, बेफ़िक्र होकर बोल,
जब तू है तेरे साथ, तो क्यों है किसी के साथ की आस,

और फिर.. कुछ तो बोला हमने, याद नहीं क्या बोला
पर बेशक़ दिल का कोई दबा दरवाजा तो खोला..

महसूस हुआ दर्शक दीर्घा में खड़ा कोई मुस्कुरा रहा है,
और बिना रुके लगातार, तालियां बज़ा रहा है..

--------------------------------------------- Nj 20160210 NOTE 3: वक़्त पिता सामान

वक़्त पिता सामान जी
हाथ पकड़ आगे बढ़ाए,
सही गलत का फ़र्क समझाए ।
मेहनत करो तो पीठ थपथपाए,
और गलती करो तो कान दबाए ।
अकड़ जाओ तो झुकना सिखाए,
गिर जाओ तो हौंसला बढ़ाए ।
और जब लगे बच्चा हुआ बड़ा,
तो होने दे उसको अपने पैरों पर खड़ा ।
साथ न होकर भी हरदम साथ रहे,
बिना बोले भी अपनी बात कहे ।
सो कभी न पाओ खुद को तुम अकेला,
थाम के वक़्त की उंगली, आगे बढ़ते चलो बेटा ।
--------------------------------------------- Nj 20150210

NOTE 2: 
ज़िंदगी है, पूरे से थोड़ी कम ही सही

छह साल पहले, 
हो गए थे हम अकेले.. 
फिर मिले कई लोग अपने 
पूरे करे कुछ सपने.. 

यादें है कुछ पुरानी,
कभी लगे अपनी, कभी अनजानी...
वक़्त भी करे मनमानी,
ले जाये वही जहाँ से शुरू हुई कहानी..

सपने है अब भी कुछ मेरे,
कुछ अनछुए कुछ अनकहे..
बस ये वक़्त कभी न थम जाये,  
हम बस आगे ही आगे बढ़ते जाये.. 

दुआओं में है हरदम आस पास वो मेरे, 
शायद थे ही नहीं हम कभी अकेले..  
यादों की भी अब कोई फ़िक्र नहीं,
ज़िंदगी है, पूरे से थोड़ी कम ही सही.
--------------------------------------------- Nj 20140210

NOTE 1: बंटवारा
बंटवारा हो रहा था, सभी अपना हक जमा रहे थे,
जमीन, जायदाद, रूपया, पैसा सब बांटा जा रहा था,
विरासत पर अपना हक जमाया जा रहा था,
जिन्होंने जन्म दिया, वो तो अब ना रहे,
छोड़ गए थे नाम, पर उनको कुछ और ही दिखा |

हर चीज बांटा ली गई, पर संस्कार न बाँट सके,
जिस घरोंदे को बचाना था,उसे तिनका तिनका कर उजाड़ गए ।
याद में अब उनके इमारते बनाते है,
मैं लायक, तुम नालायक का शोर मचाते है ।
जीते जी तो न सेवा की न हाल पूछा,
अब ज़माने को क्या खाक दिखाते है ।

बंद मुट्ठी थी तब एक घर, परिवार था,
आज बचा बस अपना अपना मकान है |
पर वक़्त का भी अपना अंदाज़ है,
रुकता नहीं, थमता नहीं, किसी के लिए भी बदलता नहीं,
सुबह के बाद शाम भी आती है,
जो जैसे बोता है, वो वैसा ही काटता है।

--------------------------------------------- Nj 20100210

Popular posts from this blog

Satyam Shivam Sundaram

सत्यम शिवम् सुन्दरम Satyam, the truth; shivam, the good, the divine;and sundaram, the beauty.
Truth is the experience, shivam is the action that comes out of the experience, and beauty is the flowering of consciousness of the man who has experienced truth.

Shiva is regarded as the patron god of yoga and arts. At the highest level, Shiva is regarded limitless, transcendent, unchanging and formless.

Iconographic attributes of Shiva are the third eye on his forehead, the snake Vasuki around his neck, the crescent moon adorning, the holy river Ganga flowing from his matted hair, the trishula as his weapon and the damaru as his instrument. Shiva is usually worshiped in the aniconic form of Lingam aka Shivlinga
Mahashivarathri, "the Great Night of Shiva" is the most significant event in India's spiritual calendar.The festival which is in veneration of Lord Shiva, marks the day when the supreme lord married Maa Parvati and together the form of Ardhanarishvara came into existence.

F…

30 Years in 30 Days

I started a series of 30 posts to celebrate my 30th birthday or 30 years in 30 days with title - "30 things i experienced before i turned 30" . Its an story of average middle class Indian boy, hope you all will find it relevant. Thanks for all the love and support.

Check the story below via Google slides : 

Pehla Sukh - निर्मल मन, निरोगी तन

Despite the difficulties and the challenges that would cause the most to give up,
there are few who dare to think of the well-being and the care for others, and devote them to the service of society & mankind.
This post is about a woman, who suffered from cancer, but after that, she is not only living her life to its fullest but also inspires many with a different perspective towards life.
In the year 1999, a woman came to know that she is having cancer, and it's difficult for her to survive, as the operation was risky & there was no permanent cure at that time, then she smiled and said:
“Don’t worry doctor I already had 6 operations,
this would be nothing, just an addition to that number”.

She survived and it took 3 years to recover completely, while there was only her willpower that saved her and gave her the strength to overcome.
After that, she decided to devote her life to the cancer patients. Her motive was to break clutter and misconceptions in the society & to spread a…